स्थानीय प्रत्याशी को ही कॉंग्रेस दे टिकट। हरीश पनेरू

sthaniye pratyashi ko hi kongres de tikat. hareesh paneroo

स्थानीय प्रत्याशी को ही कॉंग्रेस दे टिकट। हरीश पनेरू

फसल हमने बोई है इसे हम ही काटेंगे

बेहड़ के किच्छा से चुनाव लडऩे के ऐलान के बाद एकजुट हुए किच्छा के कांग्रेसी, की प्रेस वार्ता

 

किच्छा। पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तिलकराज बेहड़ के किच्छा से चुनाव लडऩे के ऐलान के बाद किच्छा कांग्रेस में भूचाल आ गया है। कांग्रेस के कुछ पदाधिकारियों ने विरोध के सुर तेज करते हुए बाहरी प्रत्याशी का विरोध करने की बात कही है। विरोध कर रहे इन नेताओं ने एक प्रेस वार्ता कर स्थानीय प्रत्याशी को ही टिकट दिए जाने की वकालत की है।   

कांग्रेस के प्रदेश सचिव संजीव कुमार सिंह के प्रतिष्ठान पर आयोजित प्रेस वार्ता के दौरान प्रदेश महासचिव हरीश पनेरू, डॉ. गणेश उपाध्याय, बंटी पपनेजा ने एक स्वर में कहा कि किच्छा विधानसभा से पार्टी को स्थानीय प्रत्याशी को ही टिकट दी जानी चाहिए। संजीव ने कहा कि किच्छा विधानसभा में वर्षो से हमने पार्टी की सेवा करते हुए स्थानीय मुद्दों को उठाया हैं लेकिन आज बाहरी लोग किच्छा से चुनाव लडऩे का दम भर रहे है इसको स्वीकार नहीं किया जायेगा। उन्होंने कहा कि जो लोग साल 2012 के बाद किच्छा में झांकने नहीं आए और किच्छा की जनता को जिन्होंने पूरी तरह से नकार दिया था आज वो किस मुंह से किच्छा से चुनाव लडऩे की बात कह रहे हैं? वहीं कांगे्रस के प्रदेश महासचिव हरीश पनेरू ने कहा कि किच्छा कोई चारागाह नहीं है, हमने किच्छा विधानसभा के हर मुद्दे पर लड़ाई लड़ी है और किच्छावासियों की सेवा की है कोई भी कभी भी यहां आकर चुनाव नहीं लड़ सकता है। पार्टी हित में स्थानीय प्रत्याशी को टिकट देना ही सही रहेगा। वरिष्ठ नेता डॉ. गणेश उपाध्याय ने बेहड़ का नाम लेते हुए कहा कि बेहड़ को रुद्रपुर से ही चुनाव लडऩा चाहिए और अपने आप को साबित करना चाहिए। रुद्रपुर से दो बार चुनाव हारने के बाद उनका किच्छा आना उनकी छवि के लिए ही ठीक नहीं है। वहीं उन्होंने कहा कि कहीं ना कहीं पूर्व सीएम हरदा को भी स्थानीय प्रत्याशी मुद्दा पर नुकसान उठाना है और अगर आगे भी यही गलती दोहरायी गई तो फिर नुकसान होगा। युवा नेता बंटी पपनेजा ने कहा कि जो लोग किच्छा से पूरे आठ साल तक गायब रहे उन्हें अब किच्छा की याद सता रही है, किच्छा से चुनाव लडऩे का पहला हक स्थानीय प्रत्याशी का ही है। बता दें कि वहां पर वरिष्ठ नेता सुरेश पपनेजा और राजेश प्रताप सिंह की ओर से उनके प्रतिनिधि के तौर पर क्रमश: रजत पपनेजा और अजय विक्रम सिंह मौजूद थे।